Mobile tower effects on birds in hindi[2019]

Robot 2.0 को देखने के बाद हर किसी के जहन मे ये सवाल उठ रहा होगा की क्या सच मे मोबाइल टावर से पक्षियों और इंसानो  की सेहत पर बुरा प्रभाव पड़ रहा है या ये सब सिर्फ एक फ़िल्मी  ड्रामा है.
अगर आप जानना चाहते है तो बने रहे हमारे साथ.
 

Cell tower काम कैसे करता है

 
 
आपने हर tower मे कुछ  drum कि   तरह का device तो जरूर देखा होगा ये device आपकि  कॉल receive करता है और चेक करता है कि आप किस जगह कॉल कर रहे है और उस जगह के सबसे नियरेस्ट टावर को आपकी कॉल ट्रांसफर करता है.ट्रांसफर होने के तुरन्त बाद ही ये लम्बा  सा device जोकि टावर मे drum के नीचे  लगा होता है आपके फोन को उस person के फोन से connect करवा देता है!
 
 

CELL TOWER के इंसानो पर प्रभाव 

 

Cell tower का बुरा प्रभाव सिर्फ पक्षियों पर ही नही बल्की इंसानों के साथ साथ जानवरो पर भी पड़ता है.मोबाइल टावरों से उन लोगो को ज्यादा नुक्सान होता है जो  tower के आस पास रहते हो! ऐसे बहुत से केस पाए गए है जिसमे लोगो को इनकी radiation से cancer जैसी खतरनाक बीमारियों का सामना करना पड़ता है.


(Germany मे एक research से पाया गया है कि जो लोग tower से 400 मीटर कि दुरी मे रहते है उनमे cancer होने के chances 3 गुना बढ़ जाती है!
Cell tower कि radiation से होने वाली खतरनाक बीमारिया.
-दिल की धड़कन बढ़ता
– कैंसर का खतरा बढ़ जाना
– ब्रेन ट्यूमर
-pregnent महिलाओ के बच्चो मे बीमारियों का खतरा
 

Cell tower का पक्षियों पर प्रभाव 


इसको अच्छी तरह से समझने के लिए हम आपके साथ कुछ जाचे साझा करेंगे 
 जोकि yey बताती है कि radiationhttps://www.safespaceprotection.com/emf-health-risks/emf-health-effects/cell-towers/ हमारे और पक्षियों के लिए  कितनी जानलेवा होती है.
 
1.भारत मे हुए कई जाँचो( ornithology)

मे पाया गया है, कि tower के पास चिड़िया के अंडे 30 दिन तक  रखने पर उनमे से बच्चे नही निकले सके जबकि अंडो मे से बच्चे निकलने मे लगभग 14-15 दिन का समय लगता है.

 
2.ये जांच(ornithology) Chhattisgarh के birjapur मे Tower लगने के पहले 2006 और tower लगने के बाद 2017 कि गयी थी जिसमे ये पाया गया था कि tower के लगने से पहले और बाद मे पक्षियों कि संख्या मे कितनी कमी आयी.आप ये नीचे देख सकते है.
 

3.वैज्ञानिको के मुताबिक पक्षियों मे मैग्नेटिक सेंस होता है और जब ये tower से निकलने वाले radiation के दायरे मे आते है तो इनपे इनका दुष्प्रभाव पडता है.
 
4.इनसे निकलने वाले radiation से सबसे ज्यादा खतरा गौरेया, मैना, तोता, कौआ सहित अन्य छोटे पक्षियों से होता है.

मधुमखियो मे इस radiation से Collapse डिसऑर्डर पैदा हो  जाता है जिस से इनमे प्रजनन कि क्षमता कम हो जाती है इसी लिए आपने देखा होगा कि किसी भी tower के पास आपको मधुमखी का छत्ता बहुत कम देखने को मिलता है.

2 thoughts on “Mobile tower effects on birds in hindi[2019]”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *